कमर में दर्द चुदाई से ठीक हुआ

Hindi sex kahani, कमर में दर्द हुआ, चुदाई से ही ठीक हुआ। दोस्तो, नमस्कार.. मेरा नाम राज है और मैं देहरादून उत्तराखंड का रहने वाला हूँ। मैं अन्तर्वासना.काम का नियमित पाठक हूँ। काफी समय से मन में था कि मैं भी अपना प्रथम अनुभव आप सब के समक्ष रखूं।

मेरा नाम राज है.. अभी मेरी उम्र 25 वर्ष है। ये मेरे जीवन की सत्य घटना है.. जो कि 4 वर्ष पहले मेरे साथ घटी थी। उस वक्त जब मैं स्नातक की पढ़ाई कर रहा था। मैं अपने चाचा के साथ ही रहता था। मेरे चाचा की नई-नई शादी हुई थी। चाची 26 साल की थीं और दिखने में भी खूबसूरत थीं।
चूँकि मेरे चाचा आर्मी में थे तो वो शादी के एक माह के बाद ही अपनी जॉब पर चले गए।
उनके जाने के बाद चाची गुमसुम सी रहने लगी थीं, रात को भी बेचैन रहती थीं..

अब तक मुझमें भी जवानी छा चुकी थी। पोर्न मूवी देख-देख कर और सेक्स स्टोरी पढ़ कर.. मैं सेक्स के बारे में काफी कुछ जान चुका था। इसलिए मैं चाची की तड़प को समझ सकता था।
मगर मैं मजबूर था.. चाह कर भी कुछ नहीं कर सकता था।

घर पर मैं चाची और दादी रहते थे चाची के आने के बाद मैं भी चाची के साथ रहने लगा.. क्योंकि वो पढ़ाई में मेरी मदद करती थीं।
धीरे-धीरे हम दोनों एक-दूसरे के साथ घुल मिल गए, देखते-देखते 6 माह गुजर गए, अब हम अच्छे दोस्त बन चुके थे।

तो एक दिन चाची कहने लगी- राज, यहीं मेरे साथ में सो जाया कर… मैं तुम्हें सुबह उठा दूँगी.. पढ़ाई कर लेना।
मैं भी चाची के कमरे पर सोने को राज़ी हो गया। इसी बहाने उन्हें पास से जी भर के देखने का मौका जो मिल रहा था।

जब हम सोने लगे तो चाची ने लाईट बंद कर दी और अपना सूट उतारने लगीं और मेक्सी पहनने लगीं।
मुझे उनकी सफेद रंग की ब्रा दिख रही थी और उनका जिस्म भी चमक रहा था।
मैंने जैसे-तैसे खुद पर संयम किया और चुपचाप देखता रहा।
फिर वो मेरे बगल में लेट गईं और सो गईं।

अब यही सिलसिला कुछ दिनों तक यूँ ही चलता रहा।
फिर एक दिन रात को मेरी नींद खुली तो मैंने महसूस किया कि चाची ने मुझे अपने आपसे जकड़ रखा है।
शायद वो मुझे नींद में चाचा समझ रही थीं।
मैं चुपचाप लेटा रहा था.. मगर कब तक शांत रहता..

उनकी जांघ मेरे लिंग के ऊपर थी और मेरा लिंग खड़ा होता जा रहा था। मैंने डरते-डरते उनकी जांघ पर हाथ रख दिया और सहलाने लगा।
उन्होंने कोई आपत्ति नहीं की.. तो मेरी भी हिम्मत बढ़ती चली गई।

वो सोने में मस्त थीं और मैं उन्हें छूने में..

फिर मैंने अपना हाथ उनका शर्ट उठा कर उनके पजामे के अन्दर डालने की कोशिश की.. तो उनकी नींद खुल गई और उन्होंने मेरे हाथ को झटके से हटा दिया।

उस वक्त मेरी तो गाण्ड फट गई.. एक पल के लिए तो लगा.. कि आज तो मरा..!!
मैं ऐसे पड़ा रहा.. जैसे गहरी नींद में हूँ.. पर वास्तव में तो मेरी आखों से नींद गायब हो चुकी थी यह सोच कर कि सुबह क्या होगा..

परंतु सुबह चाची ने नार्मली ही बात की जैसे और दिन करती थीं।
मैं खुश था कि ‘चलो बच गया’ लेकिन अब रात को मेरी उन्हें छूने की हिम्मत नहीं थी..

फिर एक दिन दादी बुआ के घर चली गईं, अब चाची और मेरे अलावा घर पर कोई नहीं था।
रात को खाना खाने के बाद चाची ने बोला- राज आज सासू माँ नहीं थीं.. तो सारा काम मुझे करना पड़ा.. जिसके कारण मेरी कमर में दर्द हो रहा है। तू थोड़ा मूव लगा दे प्लीज..

मैंने ‘हाँ’ कर दी, मैंने उंगलियों पर थोड़ा मूव लिया और उनके शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर मलने लगा..
तो वो बोलीं- कैसे लगा रहा है.. जरा अच्छी तरह से लगा ना..
तो मैंने बोला- आपके शर्ट के अन्दर हाथ नहीं जा रहा है.. तो कैसे लगाऊँ?
तो वो बोलीं- रुक.. मैं सूट उतार देती हूँ..

उन्होंने पहले लाईट बंद की.. फिर शर्ट उतार कर अलग रख दिया मगर बेडरूम के बाहर वाले कमरे की लाईट खुली थी जिससे मैं उनके जिस्म को देख सकता था।
वो बिस्तर पर पेट के बल लेट गईं और बोलीं- चल.. अब मालिश कर दे..
मैं मूव लगाने लगा.. वो बोलीं- थोड़ा कमर के नीचे से ऊपर तक लगा..
तो मैं उनकी ब्रा पर हाथ रखते हुए बोला- यह बीच में आ रही है.. खोल दूँ?
उन्होंने बोला- हाँ खोल दे..

फिर मैं उनके चूतड़ों पर बैठ कर उनकी कमर की मालिश करने लगा।
वो चुपचाप लेटी रहीं.. मेरा लिंग भी खड़ा होने लगा और वो चाची की गाण्ड पर लगने लगा।
उन्हें भी इस बात का अहसास हो गया था मगर जब वो कुछ नहीं बोलीं.. तो मेरी हिम्मत भी बढ़ने लगी।

मैंने अपना हाथ उनके स्तनों के पास ले जाते हुए फेरने लगा।
वो गर्म होती जा रही थीं.. और मेरा लिंग भी उनकी गाण्ड पर दबाव बनता जा रहा था।

धीरे-धीरे मैंने अपना लंड उनकी गाण्ड पर रगड़ना शुरू कर दिया और अपना हाथ उनके स्तनों की तरफ ले गया.. तो चाची ने अपनी छाती को बिस्तर से ऊपर को उठा दिया.. ताकि मैं उनके चूचों पर मालिश कर सकूँ।

मैंने देखा कि लोहा गर्म है.. हथौड़ा मार देना चाहिए। तो मैंने उनकी चूचियाँ पकड़ लीं और दम से मसलने लगा और उन्हें गर्दन पर किस करने लगा।

फिर उन्हें अपनी तरफ को घुमा कर उनके ऊपर लेट गया और फिर मैंने उनका पजामा उतार दिया।

अब वो केवल पैन्टी में थी और मैंने अपने कपड़े भी निकाल दिए.. मैंने बस फ्रेंची रहने दी और चाची को गर्म करता रहा।

फिर जैसे ही मैंने अपना हाथ चाची की पैन्टी के अन्दर डालने की कोशिश की चाची ने मेरा हाथ पकड़ लिया और यह कह कर उठने लगी- प्लीज राज.. नहीं ये सब सही नहीं है..

किन्तु अब मैं कंट्रोल से बाहर हो चुका था।
मैंने उन्हें बहुत समझाने की कोशिश की- बस एक बार करने दो..
मैं उनके स्तनों.. गाल.. गर्दन.. कान.. पर चूमता रहा।

वो मुझे खुद से हटाने की कोशिश करती रही।
मैंने उनकी जाँघों पर चूमना शुरू कर दिया। उनके दोनों हाथों अपने एक हाथ से पकड़ लिया और उनकी पैन्टी के अन्दर अपनी उंगलियाँ डालते हुए उनकी उनकी चूत पर रगड़ने लगा और उनकी चूचियाँ चूसता रहा।

तभी मैंने अपनी उंगली उनकी चूत के अन्दर घुसा दी.. तो उनकी सिसकारी निकालने लगी।
‘आह्ह.. राज क्या कर रहे हो..? छोड़ दो.. मुझे.. प्लीज..’
मगर मैंने एक ना सुनी और उनकी दोनों टाँगों के बीच में लेट कर उनकी पैन्टी को साइड से हटा कर जीभ से उनकी चूत चाटने लगा। फिर अपनी जीभ को चाची की चूत में अन्दर डालने लगा तो चाची छटपटाने लगीं।

अब उन्हें भी कंट्रोल नहीं हो रहा था, वो बिस्तर से उठती.. तो मैं उनकी चूत में जीभ डाल के जोर-जोर से चूसने लगता।
वो भी जोश में आ गईं और कम्बल को अपनी मुट्ठी में कसने लगीं..

अब वो बेकाबू हो चुकी थीं.. उनका विरोध अब सेक्स की भूख में बदल गया था। उन्होंने अपनी एक टांग को मेरे लंड पर रख दिया और रगड़ने लगीं।

मैंने उनकी पैन्टी को उतारने की कोशिश की.. तो उन्होंने अपनी गाण्ड उठा कर पैन्टी निकलवाने में मेरी मदद की।
पैन्टी निकलते ही मैंने उनकी दोनों टाँगें थोड़ी सी खोल दीं.. जिससे उनकी चूत को चाटने में आसानी हो।

फिर मैं पू दम से उनकी चूत चाटने लगा। चूत उन्होंने अपने दोनों हाथ मेरे सर पर रख के मुझे अपनी चूत दबाना शुरू कर दिया.. मानो मेरा पूरा सर अपने अन्दर समां लेना चाहती हों, उनका पैर भी मेरे लंड रगड़ खा रहा था।

फिर उनकी सिसकारियाँ निकलने लगीं और एक झटके में ही उन्होंने मुझे अपने नीचे दबा दिया।

अब उनकी चूत मेरे मुँह पर थी.. वो जोर-जोर से उसे रगड़ रही थीं। तब मुझे अहसास हुआ कि गर्म औरत क्या होती है।

वो पलटी.. अब उनका मुँह मेरे लंड की तरफ था।
हम दोनों 69 की पोजिशन में आ गए थे, उन्होंने अपना हाथ मेरी फ्रेंची के अन्दर डाला और मेरा लंड निकाल दिया।
‘आह.. कब से तरस रही हूँ मैं.. आज तूने मेरी वासना भड़का दी है.. अब इसे शांत भी तू ही कर..’
वे मेरे लवड़े को चूसने लगीं.. कभी लंड चूसतीं.. कभी मेरे अंडों को..

सच में दोस्तो.. 69 का अपना ही अलग मज़ा है.. यह बात मुझे उसी दिन पता चली।
हम दोनों एक-दूसरे को चाट-चाट कर और सुलगा रहे थे.. यह मेरा फस्ट टाइम था.. जब मैं किसी के साथ ये सब कर रहा था।
मुझे लगा कि कहीं मैं कुछ करने से पहले ही न झड़ जाऊँ.. मैंने उनके मुँह से लंड बाहर निकाला और चाची के ऊपर लेट गया।

अब चाची से भी रहा ना गया.. उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत में रगड़ने लगीं!

मैंने जैसे ही थोड़ा जोर लगाया.. वो सिसकारी लेने लगीं- राज धीरे-धीरे करो.. तुम्हारा लंड थोड़ा बड़ा है और मैंने कब से चुदाई नहीं करवाई है।
मैंने उनकी बात को अनसुना करते हुए जोर से झटका मारा तो वो चिल्लाने लगीं- आह्ह.. बस बस.. धीरे करो.. प्लीज.. दर्द होता है..
मैंने धक्के लगाना चालू रखा और फिर कुछ ही मिनटों में उनका दर्द.. मज़े में बदलने लगा, वो भी अपनी कमर को तेजी से झटके देने लगीं..

अब शायद उनकी कमर का दर्द या खत्म हो गया था.. या सेक्स के नशे में वो अपनी कमर का दर्द भूल चुकी थी। हम दोनों एक-दूसरे से अन्दर समाँ जाना चाहते थे।
चाची अपने नाख़ून मेरी पीठ पर गड़ा रही थीं और मैं चाची के स्तनों पर काट रहा था।

तभी चाची ने मुझे कस लिया और तेजी से झटके मारने लगीं.. मैंने चाची को कहा- मेरा निकलने वाला है..
तो वो बोलीं- अन्दर ही झाड़ दो.. कब से तरस रही थी.. इस पल के लिए.. आह्ह..
इतना कहते ही चाची ने बोला- प्लीज राज.. तेजी से करो.. और जोर से.. मेरा भी होने वाला है.. तेज और तेज.. हम्म्म्म.. हम्म्म्म.. आह्ह.. मैं गई..ई..ई..

वे झड़ गईं और मैं भी उनके साथ ही झड़ गया।
हम दोनों पसीने लथपथ थे, ऐसा लग रहा था.. मानो आग से निकले हों।
चाची के चेहरे पर ख़ुशी के भाव थे.. मानो उनकी प्यास कुछ शांत हो गई हो.

Leave a Comment